धौलपुर, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने आज धौलपुर में स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से हजारों महिलाओं को स्वावलंबी बनाकर उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने वाली महिलाओं के समूह से मुलाकात की। कृषि सखी, पशु सखी, जन सखी के तौर पर लोगों को खेतीबाड़ी, पशुपालन, डेयरी आदि की आधुनिक तकनीकों का उपयोग सिखाने वाली इन महिलाओं के हौसले, लगन और आत्मविश्वास की मुख्यमंत्री ने सराहना की। उन्होंने कहा कि धौलपुर की इन महिलाओं ने अपनी मेहनत से जो मुकाम हासिल किया है, उससे इस जिले के ग्रामीण जन-जीवन में एक नई आशा का संचार हुआ है। पूरे प्रदेश की महिलाओं को ये महिलाएं हुनर, रोजगार, आत्मनिर्भरता और स्वावलंबन की सीख दे सकती हैं। राजे ने इस दौरान अधिकारियों को निर्देश दिए कि धौलपुर के स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को रिसोर्स पर्सन के रूप में करौली सहित प्रदेश के अन्य जिलों में महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए भेजा जाए, ताकि वहां भी इस तरह का कायाकल्प किया जा सके।

मुख्यमंत्री ने जाने स्वयं सहायता समूहों के नवाचार

मुख्यमंत्री ने सहेली सर्वांगीण महिला विकास सहकारी समिति से जुड़ी इन महिलाओं से परिचय लिया और आत्मीयता से उनके काम, स्वयं सहायता समूह में उनकी भूमिका एवं इन समूहों से जुडऩे के बाद उनकी आर्थिक एवं पारिवारिक स्थिति में आए बदलाव के बारे में जानकारी ली। राजे यह जानकर प्रभावित हुईं कि धौलपुर जिले के 562 गांवों की 52,000 से अधिक ग्रामीण महिलाएं 12 महिला सहकारी समितियों, 318 ग्राम संगठनों एवं 4328 स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से जुड़ी हुई हैं। इन महिलाओं ने मुख्यमंत्री को इंटरनेट के माध्यम से नए-नए हुनर सीखकर खुद को आत्मनिर्भर बनाने सहित इन समूहों द्वारा किए जा रहे नवाचारों के बारे में अवगत कराया।

जल संरक्षण से जुड़ेंगी स्वयं सहायता समूह की महिलाएं

राजे ने कहा कि स्वयं सहायता समूह की इन महिलाओं को जल संरक्षण के कार्य से भी जोड़ा जाए। उन्होंने मौके से ही राजस्थान रिवर बेसिन अथॉरिटी के अध्यक्ष श्रीराम वेदिरे को फोन पर इन महिलाओं को वाटर बजटिंग के बारे में प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए। राजे ने राजस्थान राज्य वित्त आयोग की अध्यक्ष ज्योति किरण शुक्ला को भी धौलपुर आकर स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से उल्लेखनीय कार्य कर रही महिलाओं के किसी एक गांव में जाकर उसके बारे में रिपोर्ट बनाने के निर्देश दिए, ताकि उसी पैटर्न पर प्रदेश के दूसरे गांवों को भी स्वयं सक्षम बनाया जा सके।

मुख्यमंत्री की उपस्थिति में धौलपुर, बाड़ी एवं राजाखेड़ा में सहेली समितियों के साथ नगर परिषद एवं नगर पालिकाओं की ओर से इन नगरीय क्षेत्रों में स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से महिलाओं को सक्षम बनाने के उद्देश्य से एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने धौलपुर में शुरू किए गए मुख्यमंत्री कार्यालय के कैम्प ऑफिस में जनसुनवाई कर आमजन से अभाव अभियोग सुने। उन्होंने लोगों को राहत पहुंचाने एवं उनकी समस्याओं के समाधान के लिए मौके पर ही अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए।

इस दौरान सांसद डॉ. मनोज राजौरिया, राज्य पशुधन विकास बोर्ड के अध्यक्ष जगमोहन सिंह बघेल, विधायक शोभारानी कुशवाहा, जिला प्रमुख डॉ. धर्मपाल, प्रमुख शासन सचिव स्वायत्त शासन मनजीत सिंह, संभागीय आयुक्त सुबीर कुमार, जिले के प्रभारी सचिव अभय कुमार, जिला कलेक्टर शुचि त्यागी, मंजरी फाउंडेशन धौलपुर के निदेशक संजय शर्मा सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी, सहेली सहकारी समिति से जुड़ी महिलाएं एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।