जगदलपुर:नारायणपुर में मंगलवार को बड़ी संख्या में नक्सलियों ने हथियारों के साथ सरेंडर किया है। वहीं, बीजापुर में नक्सलियों ने विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करने के लिए पर्चे फेंके और बैनर लगाए हैं। जबकि अगवा किए गए एक ग्रामीण की हत्या करने की भी सूचना है।

 

नारायणपुर में 62 नक्सलियों ने बस्तर आईजी विवेकानंद के सामने सरेंडर कर दिया। सरेंडर करने वाले 51 नक्सलियों ने भरमार बंदूक भी सौंपी हैं। आत्मसमर्पण के बाद नक्सलियों ने कहा कि हमने अपने जीवन का अनमोल समय खो दिया, अब मुख्यधारा से जुड़कर काम करेंगे। 

अगवा ग्रामीणों की हत्या 

दूसरी ओर बीजापुर के गंगालुर से अगवा किए गए दो ग्रामीणाें में से एक की नक्सलियों ने हत्या कर दी है। जबकि दूसरे ग्रामीण को मारपीट कर छोड़ दिया है। अगवा किए गए दोनों ग्रामीण पोद्दापारा गंगालूर के रहने वाले थे। ग्रामीणों को अगवा फिर हत्या मामले में मुखबिरी की आशंका है। 

नक्सलियों ने रविवार शाम गंगालूर के बद्देपारा गांव से दो ग्रामीणों का अपहरण किया था। इनमें से एक ग्रामीण की नक्सलियों ने हत्या कर दी। मृत ग्रामीण का नाम आयतु हेमला बताया जा रहा है। हत्या कर शव को गंगालूर के नजदीक फेंक दिया। शव के पास नक्सलियों ने पर्चे भी फेंके जिसमे ग्रामीण को पुलिस का मुखबिर नक्सलियों ने बताया है। 

चुनाव बहिष्कार के लगाए पोस्टर-बैनर

वहीं बीजापुर के ही भोपालपटनम ब्लॉक में देर रात नक्सलियो ने चुनाव बहिष्कार के लिए पर्चे फेंके और बैनर लगाए। नक्सलियों ने विधानसभा चुनाव के बहिष्कार का ऐलान किया है। बैनर में नक्सलियों ने भाजपा को हटाने की बात कही है। नक्सलियों ने राजनीतिक प्रत्याशियों के पोस्टर पर क्रास का निशान लगाकर लिखा है कि जो वोट मांगने आए उसे मार भगाओ। 

बताया जा रहा है कि ये पर्चे दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी ने फेंके हैं। पर्ची में नक्सलियों ने विधानसभा चुनाव के बहिष्कार का आम जनता से अपील की है। वोट मांगने आने वाले राजनीतिक दल के लोगों को मार भगाने का किया भी जिक्र पर्चे में है।  नक्सलियों ने दीवारों पर नारे भी लिखे है और प्रत्याशियों के पर्चों पर लाल निशान लगा दिया है।