नई दिल्ली, चंदा कोचर ने आईसीआईसीआई बैंक के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया है। ये इस्तीफा तत्काल प्रभाव से लागू होगा। कोचर ने बोर्ड से अपील की थी कि उन्हें जल्द रिटायरमेंट दे दिया जाए, जिसे मंजूर कर लिया गया। कोचर के इस कदम के बाद बैंक के शेयरों में 5 फीसदी का सुधार देखा गया।

संदीप बख्शी एमडी-सीईओ नियुक्त
बैंक ने कहा- चंदा कोचर की दरख्वास्त तुरंत मंजूर कर ली गई है। उनके खिलाफ चल रही जांच पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। बैंक ने संदीप बख्शी को मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ बनाने का फैसला लिया है। उनकी नियुक्ति 5 साल के लिए होगी।

वीडियोकॉन लोन मामले में लगे आरोप
आईसीआईसीआई ने कर्जदारों से बैंक के हितों के टकराव और फायदा पहुंचाने के व्हिसल ब्लोअर के आरोपों के बाद चंदा कोचर के खिलाफ स्वतंत्र जांच का फैसला लिया था। वीडियोकॉन को लोन देने के इस मामले में चंदा कोचर और उनके परिवार के सदस्यों की मिलीभगत का आरोप है। सेबी ने चंदा कोचर को इस संबंध में नोटिस भेजा था।

मार्च से विवादों में थीं चंदा कोचर
अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने मार्च में दावा किया था कि वीडियोकॉन ग्रुप की पांच कंपनियों को आईसीआईसीआई बैंक ने अप्रैल 2012 में 3250 करोड़ रुपए का लोन दिया। ग्रुप ने इस लोन में से 86% यानी 2810 करोड़ रुपए नहीं चुकाए। इसके बाद लोन को 2017 में एनपीए (नॉन परफॉर्मिंग असेट्स) घोषित कर दिया गया। बाद में वीडियोकॉन की मदद से बनी एक अन्य कंपनी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की अगुअाई वाले पिनैकल एनर्जी ट्रस्ट के नाम कर दी गई। 94.99 फीसदी होल्डिंग वाले ये शेयर्स महज 9 लाख रुपए में ट्रांसफर कर दिए गए।