जयपुर:उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा के मामले में सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस इस मामले में भाजपा, विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल की भूमिका में सवाल उठा रही है, तो वहीं भाजपा इस पूरे घटनाक्रम पर हो रही सियासत को दुर्भाग्यपूर्ण मानती है। यूपी के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया कि यूपी के बुलंदशहर में जो कुछ भी हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण और दु:खद घटना है, लेकिन कांग्रेस इस पर जिस तरह की राजनीति कर रही है, वह उससे भी ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण है।

जयपुर आए उत्तरप्रदेश के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा यूपी के मुख्यमंत्री ने इस पूरी घटनाक्रम की जांच के लिए एसआईटी यानी स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम गठित कर दी है। अब जैसे ही एसआईटी की रिपोर्ट आएगी, पूरे मामले में दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। उन्होंने बताया कि एक बड़ी घटना को रोकने में सरकार ने सफलता प्राप्त की है। घटना घटित होने के तत्काल बाद दी कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई थी। अभी जांच की जा रही है और जांच रिपोर्ट आते ही दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि पीड़ित पक्ष को 40 रुपये की सहायता राशि और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपए की सहायता राशि दी जाएगी। साथ ही उनकी पत्नी को सरकारी नौकरी और असाधारण पेंशन राहत के तौर पर दी जाएगी। गौरतलब है कि यूपी के बुलंदशहर में गौ हत्या के संदेह पर उग्र हुई भीड़ में हिंसा की थी, जिसमें इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी। हालांकि इस पूरे मामले में पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि 87 लोगों पर पुलिस ने केस दर्ज किया है।