मुंबई : एक ऐसा सवाल जो आज तक किसी में हिम्मत नहीं थी पूछ लेने की । ब्रिटेन के लोगों को अंग्रेज सिर्फ और सिर्फ भारत में कहा जता है लेकिन इसमें कोई दो राय नहीं कि उनके शासक ईसाई ही थे। देश की आज़ादी की ठेकेदारी अक्सर कुछ लोगों को लेते दुनिया ने देखा है लेकिन जब कोई सवाल कडवा लग जाता है तो उस पर मचा दिया जाता है कोहराम । एक बार फिर से भारती जनता पार्टी के सांसद के बयान पर मच गया सियासी घमासान।

विदित हो कि एक बेहद कडवा लेकिन तार्किक सवाल जैसे ही भारतीय जनता पार्टी के सांसद में पुछा वैसे ही मच गया सियासी घमासान । अब हालात ये है कि बीजेपी सांसद गोपाल शेट्टी के एक बयान से विवाद पैदा हो गया है। उन्होंने कहा है कि ईसाई अंग्रेज हैं और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में उनका कोई योगदान नहीं रहा है।

ये भाषण कुछ दिन पहले का बताया जा रहा है लेकिन उनके भाषण का वीडियो गुरुवार को आया और सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो गया,उनके इस बयान का कुछ लोग विरोध करते दिखे हैं तो कई लोगों ने इस बात से सहमति जताई कि ये सवाल तो बनता है कि ईसाईयों का क्या योगदान है।

जिले के कद्दावर भाजपा नेताओं में गिने जाने वाले और इसके अलावा उत्तर मुंबई के सांसद ने कहा, "ईसाई अंग्रेज थे, इसलिए उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भाग नहीं लिया। भारत को किसी हिंदू या किसी मुसलमान ने आजाद नहीं कराया, आजादी के लिए हम एक होकर लड़े थे। "यद्दपि इस मामले में राजनीति तत्काल तेज हो गयी है और फौरन ही कांग्रेस ने अपने तमाम लोगों को भाजपा पर हमले के लिए उतार दिया अहि ।