19 जून को राहुल गांधी 48 साल के हो रहे हैं. आमतौर पर राहुल गांधी  अपना जन्‍मदिन बेहद निजी तौर पर केवल अपने दोस्‍तों के बीच मनाते रहे हैं. लेकिन इस बार ऐसा पहली बार होने जा रहा है कि वह दिल्‍ली में पार्टी हेडक्‍वार्टर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच अपने जन्‍मदिन को मनाएंगे. इस सिलसिले में उनके पूरे दिन पार्टी ऑफिस में समय बिताने के कयास लगाए जा रहे हैं. इसी कड़ी में यूथ कांग्रेस, कांग्रेस की महिला शाखा समेत पार्टी की यूनिटों ने इस अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित करने का फैसला किया है. इस संदर्भ में 2019 की चुनावी तैयारियों में व्‍यस्‍त कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी से जुड़े अनछुए गैर सियासी पहलुओं पर आइए डालते हैं एक नजर:

एकीडो (Aikido) ब्‍लैक बेल्‍ट
19 जून, 1970 को जन्‍मे राहुल गांधी की खेलों में रुचि है. इसका पता तब चला जब पिछले साल दिल्‍ली के एक कार्यक्रम में बॉक्‍सर विजेंद्र कुमार ने राहुल गांधी से पूछा कि क्‍या आपकी खेलों में रुचि है? इस पर कांग्रेस उपाध्‍यक्ष ने कहा था कि वह एकीडो (Aikido) में ब्‍लैक बेल्‍ट हैं. अक्‍सर मैदान में कम से कम एक घंटे खेलकूद में पसीना भी बहाते हैं. इस पर विजेंद्र ने कहा था कि आपको उसके वीडियो लोगों से शेयर करने चाहिए ताकि लोग प्रेरित हो सकें. इस पर जवाब देते हुए राहुल गांधी ने कहा, 'मैं जरूर ऐसा करूंगा'. तब पहली बार लोगों को राहुल गांधी इस खेल के प्रति रुचि के बारे में पता चला. उसके बाद सोशल मीडिया पर उनके एकोडी पोजीशंस की तस्‍वीरें कांग्रेस और पार्टी की सोशल मीडिया विंग को संभालने वाली दिव्‍या स्‍पंदना ने शेयर कीं. एकीडो जापानी मार्शल आर्ट है.

M.Phil की पढ़ाई
राहुल गांधी ने ब्रिटेन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से डेवलपमेंट स्‍टडीज में एमफिल किया है. उन्‍होंने अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से भी पढ़ाई की है. पढ़ाई खत्‍म करने के बाद वह ब्रिटेन में मैनेजमेंट कंसल्‍टेंट की जॉब कर चुके हैं. 2004 में जब पहली बार अमेठी से चुनावी मैदान में उतरे तो अपने हलफनामे में पेशे के कॉलम में 'किसान' लिखा. 2009 में इसको बदलकर 'स्‍ट्रैटजिक कंसल्‍टेंट' लिख दिया.

मोमोज के शौकीन
राहुल गांधी के करीबियों के मुताबिक उनको स्‍टीम मोमोज खाने का बेहद शौक है. राहुल गांधी को पढ़ने का भी बेहद शौक है.

19 जून को राहुल गांधी 48 साल के हो रहे हैं. आमतौर पर राहुल गांधी अपना जन्‍मदिन बेहद निजी तौर पर केवल अपने दोस्‍तों के बीच मनाते रहे हैं. लेकिन इस बार ऐसा पहली बार होने जा रहा है कि वह दिल्‍ली में पार्टी हेडक्‍वार्टर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच अपने जन्‍मदिन को मनाएंगे. इस सिलसिले में उनके पूरे दिन पार्टी ऑफिस में समय बिताने के कयास लगाए जा रहे हैं. इसी कड़ी में यूथ कांग्रेस, कांग्रेस की महिला शाखा समेत पार्टी की यूनिटों ने इस अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित करने का फैसला किया है. इस संदर्भ में 2019 की चुनावी तैयारियों में व्‍यस्‍त कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी से जुड़े अनछुए गैर सियासी पहलुओं पर आइए डालते हैं एक नजर:

जब 'निर्भया' की मां को दिया हौसला

दिसंबर 2012 गैंगरेप पीड़िता 'निर्भया' की मां आशा देवी ने पिछले साल एक अंग्रेजी मैगजीन को दिए इंटरव्‍यू में कहा कि राहुल गांधी बेहद प्रेरणादायक व्‍यक्ति हैं. उन्‍होंने कांग्रेस अध्‍यक्ष का आभार प्रकट करते हुए कहा कि उन्‍होंने मेरे बेटे को जो सलाह दी, उसी की बदौलत वह पायलट बनने में कामयाब हुआ. आशा देवी ने कहा कि राहुल ने उनके बेटे को कभी हार नहीं मानने की सलाह दी. आशा देवी ने कहा, ''उस त्रासदी ने मेरे बेटे को तोड़ दिया लेकिन उसके इरादे को नहीं डिगा पाया. अब वह राहुल गांधी की बदौलत पायलट बन गया है.

आशा देवी ने कहा कि दिसंबर, 2012 की घटना से उनके बेटे को गहरा धक्‍का लगा लेकिन राहुल गांधी ने उसको पायलट ट्रेनिंग कोर्स को करने के लिए प्रोत्‍साहित किया. आशा देवी ने कहा, ''राहुल गांधी ने मेरे बेटे की काउंसलिंग करते हुए कहा कि अपने परिवार को सहारा देने के लिए जीवन में कुछ बेहतर करने का प्रयास करो. राहुल ने उसको स्‍कूल पूरा होने के बाद पायलट ट्रेनिंग कोर्स को करने की सलाह दी.''

2013 में उसने रायबरेली के इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय उड़ान अकादमी में एडमिशन लिया. आशा देवी ने कहा, ''जब वह पढ़ाई कर रहा था तो राहुल उससे फोन पर बात कर लेते थे और 18 महीने के उस पायलट ट्रेनिंग कोर्स के दौरान उन्‍होंने उसको मजबूत इरादों के साथ आगे बढ़ने और कभी हार नहीं मानने की सलाह दी.'' आशा देवी ने यह भी कहा जब उसकी पढ़ाई पूरी हो गई, उसके बाद भी वह कांग्रेस नेता के साथ संपर्क में रहा.