सोल: उत्तर कोरिया ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और अपने नेता किम जोंग उन के बीच होने वाली बहुप्रतीक्षित शिखर वार्ता को रद्द करने की मंगलवार (15 मई) को धमकी दी. दक्षिण कोरिया की समाचार एजेंसी योनहाप ने यह खबर दी है. गौरतलब है कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन  और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच 12 जून को सिंगापुर में वार्ता होने वाली है. योनहाप ने उत्तर कोरिया की आधिकारिक न्यूज एजेंसी केसीएनए के हवाले से कहा है कि प्योंगयोंग ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच मैक्स ठंडर संयुक्त सैन्य अभ्यास को लेकर सोल के साथ उच्च स्तरीय वार्ता भी रद्द कर दी है.

वहीं दूसरी ओर उपग्रह से ली गई तस्वीरों से पता चलता है कि उत्तर कोरिया ने अपने नेता किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच होने वाले ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन से पहले अपने परमाणु परीक्षण स्थल को तोड़ना शुरू कर दिया है. यह बात एक अमेरिकी निगरानीकर्ता ने कही है. अमेरिका और दक्षिण कोरिया  ने इस कदम का स्वागत किया है. उत्तर कोरिया ने कहा है कि सप्ताहांत तक वह पुंगगी-री परमाणु परीक्षण स्थल ‘पूरी तरह से’ तोड़ देगा. यह 23-25 मई को निर्धारित एक कार्यक्रम में विदेशी मीडिया के समक्ष होगा. यद्यपि अंतरराष्ट्रीय परमाणु निगरानी एजेंसी से किसी भी पर्यवेक्षक को आमंत्रित नहीं किया गया है, जिससे प्रक्रिया के खुलेपन पर सवाल उठता है. उत्तर कोरिया के उत्तर पूर्व क्षेत्र स्थित पुंगगी-री पर ही उत्तर कोरिया के सभी छह परमाणु परीक्षण हुए हैं. यहीं पर गत वर्ष सितम्बर में नवीनतम परमाणु परीक्षण भी किया गया जिसके बारे में उत्तर कोरिया ने कहा था कि वह हाइड्रोजन बम था.

 उत्तर कोरिया ने परमाणु परीक्षण स्थल तब बंद करने का वादा किया था, जब किम ने गत महीने देश की परमाणु ताकत को पूर्ण घोषित किया था और कहा था कि उसे अब परिसर की जरूरत नहीं है.

परमाणु परीक्षण स्थल के निरीक्षण के लिए दक्षिण कोरिया के आठ पत्रकारों को न्यौता
उत्तर कोरिया दुनिया को यह दिखाने के लिए तैयार हो गया है कि उसने अपने परमाणु परीक्षण स्थल को बंद कर दिया है. इसके लिए उसने पत्रकारों के एक अंतरराष्ट्रीय समूह को अपने यहां आने का निमंत्रण दिया है जिनमें दक्षिण कोरिया के भी आठ पत्रकार शामिल हैं. दक्षिण कोरिया ने मंगलवार (15 मई) को यह जानकारी दी है. परमाणु परीक्षण स्थल को बंद करने से ही अगले महीने सिंगापुर में उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच शिखर सम्मेलन का मंच तैयार होगा.

ऐतिहासिक ट्रंप-किम भेंटवार्ता उत्तर कोरिया के साथ परमाणु गतिरोध को दूर करने की दिशा में वैश्विक कोशिश के लिए एक अहम पल होगी. वैसे, विश्लेषकों का अब भी कहना है कि परमाणु परीक्षण स्थल का बंद किया जाना पूर्ण निरस्त्रीकरण की दिशा में एक पूर्ण सटीक कदम नहीं होगा.