नई दिल्ली प्यार के इजहार का लम्हा सबके लिए खास होता है। इस एहसास को लोग पूरी जिंदगी महसूस करते हैं। वहीं, लोग इस लम्हे को यादगार बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ते हैं। ऐसा ही कुछ प्लान 25 साल के आर्मी ऑफिसर ठाकुर चंद्रेश सिंह ने बनाया था। उन्होंने अपनी परेड सेरेमनी पर आर्मी ऑफीसर का ओहदा तो पाया ही, इसके साथ ही उन्होंने इस दिन अपने दिल के सबसे करीब रहने वाली गर्लफ्रेंड को प्रपोज कर हमेशा के अपना बना लिया। ग्रेजुएटिंग सेरेमनी में प्रपोज करने की इनकी तस्वीरें इंटरनेट पर खूब वायरल हो रही हैं।

पासिंग आउट परेड के खास दिन को बना लिया और खास
आर्मी ऑफिसर बने चंद्रेश सिंह का कहना है कि उन्होंने हमेशा से ही अपनी गर्लफ्रेंड धरा मेहता को इस खास दिन ही प्रपोज करने का मन बनाया था। इन तस्वीरों को सोशल मीडिया पर 34 हजार से लोगों ने लाइक किया है। चंद्रेश ने बताया कि ग्रेजुएटिंग सेरेमनी में धरा को प्रपोज करने का यह क्षण उनकी जिंदगी का सबसे रोमांचित करने वाला लम्हा था। उन्होंने कहा कि इतने लोगों के सामने अपने प्यार का इजहार करने के लिए मुझे कोई परेशानी नहीं हुई, क्योंकि मैंने हमेशा से ही इस दिन को अपनी मोहब्बत के इजहार के लिए चुना हुआ था।

धरा से रिश्ते की बात पहले ही पैरेंट्स को पहले ही बता दी थी
चंद्रेश ने बताया कि 8 सितंबर को वह चेन्नई की ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी से राजपुताना राइफल्स में ऑफिसर बने। इसके बाद पासिंग आउट परेड में सबके सामने उन्होंने अपने घुटनों पर बैठकर दिललुभाने वाले अंदाज में अपनी गर्लफ्रेंड धरा मेहता को शादी के लिए प्रपोज कर दिया। वहीं, धरा ने भी चंद्रेश के इस इजहार-ए-दिल को बिना मौका गवाए एक्सेप्ट कर लिया। चंद्रेश ने बताया कि उन्होंने इस खास दिन के लिए अपने पैरेंट्स के साथ ही धरा के पैरेंट्स को भी बुलाया था।

आर्मी में ऑफीसर बनने के सपने के बाद पूरा किया अपना दूसरा सपना
अपने रिश्ते के बारे में बताते हुए चंद्रेश ने कहा कि वह और धरा बीते साढ़े तीन साल से रिलेशनशिप में हैं। उन्होंने बताया कि मैंने तीन साल पहले ही अपने पैरेंट्स को धरा की तस्वीर दिखा दी थी। मैंने उनसे पहले ही बता दिया था कि यही वो लड़की है, जिसके साथ मैं अपनी सारी जिंदगी गुजारना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि हालांकि, मैंने अपने माता-पिता से कहा था कि पहले मैं खुद को प्रूव करूंगा और आर्मी में जाने का अपना सपना पूरा करूंगा।

हिंदी की क्लास में ही मिलते थे दोनों
चंद्रेश ने बताया कि साल 2012 में पहली बार इन दोनों की मुलाकात बेंगलुरू के सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस में हुई थी। उन्होंने बताया कि हम दोनों के ही सब्जेक्ट्स अलग थे, लेकिन हमारी हिंदी की क्लास एक साथ हुआ करती थी। चंद्रेश ने बताया कि शुरुआती दो साल हम अच्छे दोस्त रहे और हमारे बीच जबरदस्त दोस्ती थी। धीरे-धीरे दोस्ती का ये रिश्ता प्यार में तब्दील हो गया। चंद्रेश ने बताया कि धरा ने उन्हें पहले प्रपोज किया था लेकिन एसएससी की पढ़ाई करने की वजह से उन्होंने जवाब देने में एक साल लगा दिया।

मुश्किल समय में दिया गर्लफ्रेंड ने साथ
उन्होंने कहा कि मेरे सबसे मुश्किल समय में धरा हमेशा से ही मेरे साथ खड़ी रही। उन्होंने बताया कि एसएससी के पहले प्रयास में फेल होने के बाद धरा ने मजबूती से मेरा साथ दिया। इन मुश्किल दिनों में ही उन्हें अंदाजा हुआ कि उन्हें धरा से बेइंतहा प्यार है। इसके बाद उन्होंने धरा से अपने प्यार का इजहार कर दिया।