मथुरा, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने नोटबंदी और जीएसटी पर केंद्र की आलोचना करते हुए आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इनसे पड़े असर की वास्तविकता को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा पर किसानों के लिए कर्ज माफी और भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों पर लोगों को गुमराह करने का भी आरोप लगाया। वृंदावन में यादव धर्मशाला की नींव रखते हुए यादव ने कहा कि कोई पार्टी नहीं है जो भाजपा जितना झूठ बोलती हो। यादव ने कहा कि कर्ज माफी योजना से किसानों को लुभाने से लेकर भ्रष्टाचार और आम आदमी की आय बढ़ाने तक भाजपा ने जानबूझकर इस हद तक लोगों को गुमराह किया कि मेरी पार्टी सत्ता में ना आ सकें।

उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में चुनाव के दौरान भाजपा ने किसानों के लिए कर्ज माफी योजना की जानकारियां नहीं दी और बाद में संशोधन पर संशोधन किए जिससे अधिकांश लोग लाभ से वंचित रहे। यादव ने दावा किया कि विमुद्रीकरण और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) ने लोगों को सड़क पर आने के लिए मजबूर किया। उन्होंने आरोप लगाया कि नोटबंदी और जीएसटी से छोटे उद्यमी बुरी तरह प्रभावित हुए जबकि युवा बेरोजगार हो रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, हम किसी के भी दावे को खारिज नहीं करते। हालांकि यादवों को उनकी आबादी के आधार पर आरक्षण दिया जा सकता है।