उदयपुर: आप लोगों ने कई तरह के मकान या बिल्डिंग देखी होंगी। छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी लेकिन क्या कभी पेड़ पर बना घर देखा है। सोचने में तो यह बहुत अच्छा लगता है, लेकिन अब तक यह सब सिर्फ कार्टून फिल्मों में ही देखा है। लेकिन आज हम आपको ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं उसने पेड़ पर ही अपना आशियाना बसा लिया। 

जी हां, ये शख्स एक आईआईटी ग्रेजुएट है और उदयपुर में बतौर सिविल इंजीनियर कार्यरत है। इनका नाम केपी सिंह है और यह अपने इस घर में पिछले 18 सालों से रह रहे हैं। आपको बता दें कि इंजीनियर केपी सिंह का घर कोई छोटा मोटा नही है बल्कि उन्होंने आम के पेड़ पर चार मंजिला मकान बनाया है।

बिना नुकसान पहुंचाए ही पेड़ बनाया मकान,
इस घर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि केपी सिंह ने इस बात का खास ख्याल रखा है कि मकान बनने से पेड़ को कोई नुकसान न पहुंचे। यही कारण है कि उनके कमरों के अंदर से आप पेड़ की टाहनियां आदि निकलते देख सकते हैं।

केपी ने इस घर को साल 2000 में बनाया था। जिसके बाद से वह अपने इस घर में रह रहे हैं। अगर घर की बात करें तो इसमे सब कुछ है। उपर जाने के सिढियां रहने के लिए कमरे, खाने के लिए कीचन और नहाने धोने के लिए बाथरुम इत्यादि सब। आपको बता दें कि यह पेड़ 87 साल पुराना है।

घर ने बनाया रिकॉर्डधारी,
प्रकृति के प्रति अपने प्यार के चलते केपी सिंह ने जिस प्रकार इस घर का निर्माण करवाया और वो भी बिना पेड़ को कोई क्षति पहुंचाए, वह सराहनीय है। इसी की बदौलत अब उनका नाम लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो चुका है। केपी बताते हैं कि जब शुरुआत में उन्होंने लोगों को अपना यह आइडिया बताया तो लोग उनपर हंसते थे। मगर अब जब उन्होंने इस काम को कर दिखाया है तो सभी उनकी वाहवाही करते हैं। कई लोग उनके इस घर को देखने आते है।