नई दिल्ली:अन्नाद्रमुक ने पार्टी के दिवंगत नेता एम करूणानिधि को भारत रत्न देने की मांग की है। पार्टी की ओर से आज राज्यसभा में यह मांग उठायी गयी। उच्च सदन में अन्नाद्रमुक के तिरुची शिवा ने शून्य काल के दौरान करुणानिधि के सामाजिक और राजनीतिक योगदान का जिक्र करते हुये कहा कि वह इस सम्मान के लिये सर्वथा योग्य हैं। उन्होंने सरकार से इस दिशा में सकारात्मक तौर पर विचार करने की मांग की।

शिवा ने कहा कि करुणानिधि ने न सिर्फ जातीय आधार पर व्याप्त सामाजिक भेदभाव के खिलाफ सफल आंदोलन का आगाज किया था बल्कि साहित्य, अभिनय और कला के क्षेत्र में भी उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियां हैं। उन्होंने करुणानिधि के बहुमुखी व्यक्तित्व का जिक्र करते हुये कहा कि उन्होंने साहित्य के क्षेत्र में कविता और लघु कथा लेखन तो किया ही था, साथ ही उन्होंने 80 फिल्मों की पटकथा भी लिखी।

इसके अलावा दक्षिण में द्रविण आंदोलन के नेता के रूप में करुणानिधि के उल्लेखीय योगदान को नजरंदाज नहीं किया जा सकता है। शिवा ने कहा कि सभी क्षेत्रों में उनके योगदान और प्रतिभा का देखते हुये करुणानिधि देश के शीर्ष नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ के लिये योग्य व्यक्ति हैं। उन्होंने सरकार से इस दिशा में यथाशीघ्र सकारात्मक पहल करने की मांग की।