मॉस्को:रूस के राष्‍ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक महत्वपूर्ण मिसाइल संधि से अलग होने का ऐलान कर दिया है। अमेरिका के पीछे हटने की घोषणा के एक दिन बाद शनिवार को रूस ने भी अलग होने की पुष्टि की है। मध्यम दूरी की मारक क्षमता वाली परमाणु बल संधि' (इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्स ट्रीटी यानी INF संधि) 1987 में हुई थी। 

गौरतलब है कि इससे पहले अमरीका के राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रंप ने रूस पर 1987 की परमाणु शक्ति संधि के उल्‍लंघन का आरोप लगाया था। ट्रंप ने कहा था कि रूसी मिसाइलों से निपटने के लिए अमरीका अपने विकल्‍प तैयार करेगा। अमरीका ने छह महीने के अंदर संधि से अलग हो जाने की चेतावनी भी दी थी। रूस ने संधि के उल्‍लंघन के आरोपों को सिरे से खारिज किया है। राष्‍ट्रपति पुतिन ने कहा कि 'हमारे अमेरिकी साझेदारों ने समझौते में अपनी भागीदारी को स्थगित करने की घोषणा की है और हम भी अपनी भागीदारी स्थगित कर रहे हैं।

बता दें कि तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और सोवियत संघ के नेता मिखाइल गोर्बाच्योफ द्वारा शीत युद्ध की समाप्ति के लिए इस संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। यह संधि 500 से 5,500 किलोमीटर दूरी तक मारक क्षमता वाली जमीन से दागी जाने वाली मिसाइलों पर प्रतिबंध लगाती है।