नई दिल्‍ली:कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus infection) के चलते पूरे देश में लॉकडाउन लगाया गया था. सार्वजनिक परिवहन की सेवाएं भी रोक दी गई थीं. अब अनलॉक के शुरू होने के बाद इन्‍हें चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जा रहा है. इसी क्रम में 7 सितंबर से दिल्‍ली मेट्रो (Delhi Metro) का परिचालन भी शुरू होने जा रहा है. मेट्रो सेवा सोमवार सुबह 7 बजे से शुरू होगी. पहले चरण के तहत सबसे पहले येलो लाइन पर सेवा शुरू की जा रही है. इस रूट के जरिये यात्री समयपुर बादली से गुरुग्राम के हुडा सिटी सेंटर तक जा सकेंगे. DMRC का दावा है कि COVID-19 के फैलाव को रोकने के लिए कई तरह के उपाय किए गए हैं. बता दें कि दिल्‍ली मेट्रो की सेवा 169 दिनों के बाद फिर से शुरू हो रही है.

दिल्‍ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त (यातायात) अतुल कटियार ने कहा कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए हर मेट्रो स्टेशन पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि ये पुलिसकर्मी इस बात पर भी ध्यान देंगे कि मेट्रो से यात्रा करने वाले यात्री फेस मास्क पहने हुए हैं कि नहीं या फिर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है या नहीं. अतुल कटियार की माने तो पुलिसकर्मियों को भीड़ नियंत्रित करने के साथ-साथ कोविड-19 से जुड़े सभी निर्देशों का पालन भी सुनिश्चित कराना होगा.
 

यह परिचालन सेवा का समय

बता दें कि दिल्ली मेट्रो पांच महीने से भी ज्‍यादा समय के बाद शुरू हुआ है. सोमवार को केवल केवल एक लाइन खुलेगी और परिचालन समय सुबह 7 बजे से 11 बजे तक और शाम 4 से 6 बजे तक होगा. वहीं, प्रमुख मेट्रो स्टेशनों पर केवल चयनित गेट से ही एंट्री की की अनुमति होगी. एग्जिट के लिए भी अलग गेट होगा. यात्रियों को केवल स्मार्ट कार्ड का उपयोग और कैशलेस/ऑनलाइन लेनदेन की अनुमति होगी.तीन चरणों में शुरू होगाफिलहाल कुछ स्टेशनों पर सेवाएं बंद रहेंगी, लेकिन 12 सितम्बर से सारे स्टेशनों पर सेवाएं बहाल हो जाएंगी. कोविड महामारी को देखते हुए दिल्ली मेट्रो में यात्रियों की सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली परिवहन विभाग कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. दिल्ली परिवहन विभाग ने भीड़ को प्रबंधित करने और सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित कराने के लिए मेट्रो स्टेशनों पर सिविल वोलेंटियर्स को तैनात किया है.

इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के लिए स्टेशनों और ट्रेनों के अंदर मार्किंग भी की गई है. स्टेशन परिसर में निशान और ट्रेन कोचेज़ में सीट पर स्टीकर लगाएं गए हैं, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके. थर्मल स्क्रीनिंग के बाद केवल स्वस्थ्य व्यक्तियों को ही यात्रा करने की अनुमति होगी. यात्रियों द्वारा उपयोग के लिए प्रत्येक प्रवेश बिंदु पर एक स्वचालित सैनिटाइज़र डिस्पेंसर मशीन भी उपलब्ध कराई गई है.

टोकन जारी नहीं किया जाएगा
कोरोना के संक्रमण के खतरे को देखते हुए यात्रियों को कोई टोकन जारी नहीं किया जाएगा. स्मार्ट कार्ड का उपयोग और रिचार्ज के लिए ऑनलाइन / कैशलेस लेनदेन ही मान्य होगा और आरोग्य सेतु ऐप के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाएगा. डीएमआरसी ने एलेवेटर बटन के साथ हाथ का संपर्क न हो इसके लिए हर मेट्रो स्टेशन पर एक पैर संचालित लिफ्ट की शुरुआत की है. ट्रेन के कोच में दीवारों पर सुरक्षित यात्रा के लिए निर्देश चिपकाए गए हैं. साथ ही हर स्टेशन पर सुरक्षा नियमों की घोषणा लगातार की जाएगी. वर्तमान में प्रवेश और निकास के लिए केवल एक गेट की अनुमति दी गई है. यात्रियों का मार्गदर्शन करने के लिए सभी महत्वपूर्ण जगहों पर साइन बोर्ड भी लगाए गए हैं.