गया, बिहार के चर्चित रोडरेज मामले में 19 वर्षीय छात्र आदित्य सचदेवा की हत्या के आरोप में बुधवार को गया की एक अदालत ने जद (यू) की पूर्व विधान पार्षद (एमएलसी) मनोरमा देवी के पुत्र रॉकी यादव सहित तीन आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। जिला अदालत ने इस मामले में रॉकी के पिता बिंदी यादव को भी 5 साल जेल की सजा सुनाई है। इसके अलावा दो अन्य दोषियों को भी इस मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। गया के एडिशनल जिला और सत्र न्यायाधीश सच्चिदानंद प्रसाद सिंह ने सजा का ऐलान किया। रॉकी ने 12वीं के छात्र आदित्य सचदेवा की हत्या सिर्फ इसलिए कर दी, क्योंकि उसने रॉकी की कार को ओवरटेक किया था।

इससे पहले गया की एक अदालत ने 31 अगस्त को रॉकी यादव सहित चार आरोपियों को दोषी करार दिया। गया व्यवहार न्यायालय के अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश सच्चिदानंद प्रसाद सिंह की अदालत ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद मुख्य आरोपी रॉकी यादव को हत्या का दोषी करार दिया था। अदालत ने रॉकी के अलावा उसके भाई राजीव उर्फ टेनी यादव और जद (यू) से निलंबित पूर्व एमएलसी के बॉडीगार्ड राजेश कुमार को भी हत्या का दोषी करार दिया। लोक अभियोजक सरताज अली खान ने बताया कि इस मामले में अदालत ने आरोपी रॉकी के पिता बिंदी यादव को भादंवि की धारा 212 और 177 के तहत आरोपी को शरण देने का दोषी ठहराया है।