जयपुर, भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने मंगलवार को जोधपुर, भीलवाड़ा और उदयपुर में आटा मिल और राशन की दुकानों पर एक साथ छापा। कार्रवाई के दौरान एसीबी ने यहां जमा गेहूं चेक कर विभिन्न रिकाॅर्ड जब्त किया। साथ ही कई जिलों में राशन दुकानों की भी आकस्मिक जांच की। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एसीबी आलोक त्रिपाठी ने बताया कि राशन के गेहूं की कालाबाजारी के सम्बन्ध में सूचना मिली थी। इस पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने जोधपुर, भीलवाड़ा व उदयपुर में आटा मिलों में जमा गेहूं चेक किया गया और आटा मिलों से सम्बन्धित विभिन्न रिकाॅर्ड जब्त किए गए। रिकाॅर्ड के विश्लेषण एवं अन्य सूचना एकत्र कर कालाबाजारी में लिप्त आटा मिलों की पहचान कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा कई जिलों में राशन दुकानों की भी आकस्मिक चैकिंग की गई।

त्रिपाठी ने बताया कि आईपीएस अजयपाल लाम्बा की अगुवाई में टीम ने जोधपुर के बोरानाड़ा औद्योगिक क्षेत्र स्थित उमा इंडस्ट्री और रामदेव एग्रो नामक दो फ्लोर मिल्स पर रेड की, जहां 3200 और 5000 बोरियां गेहूं की पाई गई। इन पर एफसीआई की मोहर लगी मिली। रिकाॅर्ड सत्यापन के लिए एफसीआई के एरिया मैनेजर व डीएसओ को मौके पर बुलाया गया, जिन्होंने गेहूं का सैम्पल लिया।

स्टाॅक रजिस्टर, परिवहन की बिल्टियां और बिजली के बिल जब्त किए गए। वहीं कोटा में आईपीएस किरण कंग के नेतृत्व में टीम ने भामाशाह मण्डी के पास स्थित फ्लोर मिल पर कार्रवाई की। भीलवाड़ा में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश गुप्ता ने टीम के साथ अलपन एग्रोटेक हमीरगढ़ में कार्रवाई की। इस दौरान पुराने बारदाने में 11,160 बोरियां जिनमें 6,778 क्विंटल गेहूं पाया गया। गेहूं खरीद व बिक्री का रिकाॅर्ड, परिवहन बिजली बिल व कम्प्यूटर का सीपीयू जब्त किया गया। गंगापुर में कार्रवाई के लिए टीम रवाना की गई है।

त्रिपाठी के अनुसार उदयपुर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश भारद्वाज ने मय टीम केजीएम एग्रो इण्डिया लिमिटेड, अग्रवाल रोलर फ्लोर मिल्स एवं सीएम फूड नामक तीन स्थानों पर रेड की, जहां 25-30 हजार बोरियां गेहूं की पाई गई, जिनके कट्‌टे एफसीआई के हैं, परन्तु पुनः सिले हुए पाए गए हैं। स्टाॅक रजिस्टर की प्रतिलिपि, परिवहन विवरण एवं बिजली खर्च सम्बन्धी बिल जब्त किए गए। प्रवर्तन निरीक्षकों को सैम्पल लेने के लिए मौके पर बुलाया गया है।

झुंझुनूं में पुलिस निरीक्षक हवासिंह ने जिला रसद अधिकारी द्वारा एफसीआई से मांगे गए गेहूं का सन 2013 से 2017 तक का रिकॉर्ड लिया। एफसीआई से स्टाॅक रजिस्टर व अन्य विवरण प्राप्त किया जाएगा। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश चौधरी ने टीम के साथ राजसमन्द के वार्ड नं. 18 में राशन डीलर सुरेश कुमार तथा ग्राम सांकरोदा व तारोट में राशन डीलर के यहां कार्रवाई की, जहां कोई अनियमितता नहीं मिली।