बिहार, असम और पश्चिम बंगाल के बाढ़ प्रभावित इलाके से गुरुवार को 74 और लोगों की मौत हो गई। बाढ़ की वजह से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है और 1.20 करोड़ से ज्यादा लोग इससे प्रभावित हुए हैं। बिहार में बाढ़ से 47 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या अब तक 119 हो गई है और एक करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। बाढ़ के कारण रेल और सडक़ मार्ग क्षतिग्रस्त हो गया है और लाखों लोग घरों से बाहर राहत शिविर में रहने के लिए मजबूर हैं।

इससे परीक्षाएं भी स्थगित हो गई हैं। बाढ़ से 16 जिलों में करीब 98 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। सहरसा जिला भी अब बाढ़ से प्रभावित हो गया है। पड़ोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ़ से प्रदेश में अबतक 119 लोगों की मौत हो चुकी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को गोपालगंज, बगहा, बेतिया, रक्सौल तथा मोतिहारी का हवाई सर्वेक्षण कर बाढग़्रस्त इलाकों का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने बेतिया हवाई अड्डा स्थित हेलीपैड पर पश्चिम चम्पारण जिले में आई बाढ़ के उपरान्त जिला प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे राहत एवं बचाव कार्यों की स्थिति का जायजा लिया।

उन्होंने कहा कि पश्चिम चम्पारण में फ्लैश फ्लड के चलते तबाही हुई है। मुख्यमंत्री ने राहत एवं बचाव कार्य तीव्र गति से चलाने एवं हर जरूरतमंद लोगों को त्वरित मदद पहुंचाने का निर्देश दिया। उन्होंने बेतिया नगर भवन स्थित इनडोर स्टेडियम पहुंचकर वहां बाढ़ पीडि़तों के लिए तैयार किए जा रहे फूड पैकेट कार्य का भी निरीक्षण किया और वरीय अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिया।

इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, वन एवं पर्यावरण प्रधान सचिव सह प्रभारी सचिव पश्चिम चम्पारण विवेक कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चन्द्रा, जिलाधिकारी बेतिया डॉ. नीलेश देवरे, पुलिस अधीक्षक बेतिया विनय कुमार सहित अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे। वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री के निर्देश पर सीतामढ़ी, शिवहर, दरभंगा, मधुबनी, बेतिया एवं मोतिहारी के जिलाधिकारियों ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया।

इससे पूर्व आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि भारतीय मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार के दक्षिणी इलाके में अगले एक हफ्ते तक बारिश की संभावना जतायी गई है पर पडोसी देश नेपाल और उत्तर बिहार में कम बारिश होने के आसार हैं। पूर्व मध्य रेलवे के बयान में कहा गया कि पटरी पर पानी आ जाने की वजह से 39 ट्रेनों को रद्द करना पड़ा है।

पश्चिम बंगाल के छह उत्तरी जिले में बाढ़ से 17 लोगों की मौत हो चुकी है। बाढ़ की स्थिति में आज सुधार हुई। असम में बाढ़ से 10 और लोगों की मौत हो गई। कुल 24 जिलों में करीब 31 लाख लोग इस आपदा से प्रभावित हुए हैं। तीसरी बार बाढ़ की त्रासदी झेल रहे राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 49 हो गई है। बाढ़ जनित घटनाओं में इस साल 133 लोगों की मौत हो चुकी है।