इस्लामाबाद:भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) को राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jet)  की ताकत मिलने के बाद से ही पाकिस्तानी सेना (Pakistan Army) बौखलाई हुई है. गुरुवार को पाकिस्तानी सेना ने एक कदम आगे बढ़ते हुए कहा कि भारत 5 राफेल ले आए या 500 हमें इससे कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है, हम पूरी तरह तैयार हैं. पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने कहा है कि भारत राफेल लाए या एस-400, हम इस सब से डरने वाले नहीं है, हम पूरी आक्रामकता से जवाब देने के लिए तैयार हैं.

डॉन में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के इस बयान को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के ट्वीट का जवाब माना जा रहा है. राफेल आने के बाद राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया था कि इससे उनकी चिंता बढ़नी चाहिए जो भारत की अखंडता और संप्रभुता को चुनौती देना चाहते हैं. पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस (14 अगस्त) से एक दिन पहले आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में मेजर जनरल इफ्तिखार ने राफेल, भारत के बढ़ते रक्षा बजट, कश्मीर, संघर्षविराम उल्लंघन और पाकिस्तान-सऊदी अरब के संबंधों समेत कई अहम् मुद्दों पर बात की. इफ्तिखार ने कहा, 'पाकिस्तान भारत के बढ़ते सैन्य खर्चे और रक्षा बजट को लेकर चिंतित है लेकिन वो किसी भी तरह की आक्रामकता के लिए तैयार है. बावजूद इसके कि भारत ने हाल ही में फ्रांस से राफेल फाइटर जेट्स लिए हैं.'

भारत की मजबूत होती सेना से घबराया पाकिस्तानराफेल से पाकिस्तान के लिए पैदा हुए ख़तरे से जुड़े सवाल पर मेजर जनरल इफ़्तिखार ने कहा, 'भारत सेना पर दुनिया में सबसे ज़्यादा खर्च कर रहा है. वो हथियारों की दौड़ में शामिल है. फ्रांस से लेकर भारत तक जिस तरह 5 राफेल की यात्रा को कवर किया गया वो उनकी असुरक्षा के स्तर को दिखाता है. इसके बावजूद चाहे वो 5 राफेल ख़रीदें या 500 हमें कोई चिंता नहीं. हम बिल्कुल तैयार हैं और हमें हमारी क्षमताओं पर कोई संदेह नहीं. इसके आने से कोई ख़ास फ़र्क़ नहीं पड़ने वाला है.'

इफ्तिखार ने कहा, 'हमारे मुक़ाबले उनका रक्षा खर्च और बजट क्षेत्र के पारंपरिक संतुलन को प्रभावित कर रहा है. अंतरराष्ट्रीय समुदाय को भी इस पर ध्यान देना चाहिए. पाकिस्तान में कई लोग कहते हैं कि पाकिस्तान का रक्षा बजट बहुत ज़्यादा है. इस वक़्त हम बजट का 17 प्रतिशत थलसेना, नौसेना और वायुसेना पर खर्च कर रहे हैं. और पिछले 10 सालों में पाकिस्तान का रक्षा खर्च लगातार कम हो रहा है. हालांकि, इसके बावजूद हमारी क्षमताएं कम नहीं हुई हैं. इसलिए वे राफेल लाएं या एस-400 हमारी तैयारी पूरी है.'

फिर कश्मीर राग अलापा
इफ्तिखार ने प्रेस कांफ्रेंस की शुरुआत में ही आज़ादी की मुबारकबाद के ज़रिए भारत पर कश्मीर को लेकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'भारत सुनियोजित तरीक़े से क्षेत्र की जनसांख्यिकी बदलकर वहां रह रहे मुसलमानों को निकालना चाहता है. ऐसी कोई प्रताड़ना नहीं जो कश्मीरियों ने नहीं झेली है. युवा शहीद हो रहे हैं और उन्हें आतंकवाद के नाम पर दफ़नाया जा रहा है. भारतीय सेनाएं कश्मीरियों को पैलेट गन से निशाना बनाती हैं. इस दौरान स्थानीय नेतृत्व को एक साल से हिरासत में रखा गया है. पाकिस्तान ने पूरी दुनिया के सामने कश्मीरियों का मुद्दा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है.'


मेजर जनरल इफ्तिखार ने कहा, महामारी के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव की अपील के बावजूद भारत ने अपने पारंपरिक कायरतापूर्ण कार्यों को जारी रखा और निर्दोष लोगों को निशाना बनाया. उन्होंने भारत पर नस्लवाद और सांप्रदायिका फैलाने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि नस्लवाद और सांप्रदायिक नफरत की आग जो भारत ने शुरू की है, वो पूरे देश में फैल गई है. आंतरिक विफलताओं को बाहरी दिखाने के उनके कदम ने उन्हें ऐसे मोड़ पर ला दिया है कि ये लावा पूरे क्षेत्र को अपने आगोश में ले सकता है.