मुंबई, भारत के पूर्व बाएं हाथ के बल्लेबाज विनोद कांबली ने एक बार फिर से मैदान पर वापसी की। हालांकि इस बार वह बतौर खिलाड़ी नहीं बल्कि एक टीम के मेंटर के रूप में मैदान पर वापसी की। कांबली को सोमवार से मुंबई में शुरू हुई मुंबई टी-20 लीग की फ्रेंचाइजी शिवाजी पार्क लॉयंस का मेंटर चुना गया है। कांबली ने 2009 में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कॅरियर को अलविदा कहा था, लेकिन अक्टूबर 2000 के बाद उन्हें भारतीय टीम में नहीं चुना गया।

कांबली ने भारत की ओर से 17 टेस्ट मैचों की 21 पारियों में 54.20 की औसत से कुल 1084 बनाए हैं। वहीं उन्होंने वनडे की 104 मैचों की 97 पारियों में 32.59 के औसत से 2477 रन बनाए। भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज एक हजार रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम करने वाले कांबली ने कहा कि मैं शिवाजी पार्क लॉयंस के साथ अपना अनुभव साझा करने और उसका मार्गदर्शन करने के लिए उत्साहित हूं। कांबली रमाकांत आचरेकर के शिष्यों में शामिल हैं।